SSL Full Form, What is the Full Form of SSL (In Hindi)?

SSL Full Form: Secure Sockets Layer

हेलो दोस्तों, कैसे है आप सब? आप सबको मेरा नमस्कार. आसा है आपको हमारा लास्ट Last article “MRP Full Form” अच्छा लगा होगा. यहां हम जानने जा रहे हैं: SSL full form, What is SSL, SSL ka full form in hindi, SSL meaning, etc.

SSL ka full form kya hai?

SSL ka full form Secure Sockets Layer hai. यह standard security technology (a protocol) है जो एक insecure network, जैसे internet पर web servers and browsers (web clients) के between secure communication provide करता है.

यह web server and browsers के between data exchanged की privacy and integrity को maintain रखता है.

 “Sockets” word एक client and server program के between information के exchanging की socket method को भी refer करता है, या तो एक network में या एक ही device पर processes के बीच.

SSL Full Form
Secure Sockets Layer

Function of SSL:

SSL एक industry standard है जो safely and reliably private information जैसे credit card numbers, social security numbers and  login credential on internet को encoding द्वारा transmit करता है.

Many websites इसका utilize अपने customers online transactions ensure करने के लिए करती हैं.

SSL Uses:

Secure Sockets Layer(SSL) को usually online transactions को secure करने के लिए framework का use किया गया था.

और eventually other applications के लिए network transport layer पर authentication and encryption को secure करने के लिए use किया गया था.

SSL web and client system के between connection safeguard करने के लिए public and private key and session keys encryption के merge का use करता है, जो internet or  या other similar TCP/IP network द्वारा together connect हुआ है.

सार्वजनिक encoded का use करके encode किया गया कुछ भी केवल private key के साथ decode किया जा सकता है, और vice versa. TLS protocol, SSL से evolve हुआ है and officially तौर पर इसे replace कर दिया है.

SSL ka History:

Secure Sockets Layer का Authentic implementation early 1990 की में Netscape Communications Corporation की help से HTTP को secure करने के लिए develop किया गया था, जो internet पर simple text के रूप में अपने record send करता है. First released  किया गया version 2.0 था जिसे some framework flaws and protocol vulnerabilities के बावजूद importance मिली थी.

Internet Engineering Task Force (IETF) ने 2015 में web पर  SSl use के लिए supersede कर दिया and तब से Transport Layer Security (TLS) protocol द्वारा इसे deprecated कर दिया गया है.

हालांकि, TLS and SSL interoperable नहीं हैं, और TLS, SSL 3.0 backward compatible है. 

Features of SSL:

  1. Mainly online e-commerce के लिए design किया गया है.
  2. All TCP applications के लिए SSL accessible है.
  3. Fragmented Data को compress करने के लिए compression के lossless method को deploy किया जाता है.
  4. SSL network connection के through protection provide करता है.वो है:

Client Server Aunthentication:

  • Communication entities, digital certificates use करके अपनी identification बनाती हैं. 
  • Database authentication को optional छोड़ देने पर site server का authentication mandatory है.
  • यह client and server को प्aunthentic करने के लिए standard cryptographic technique use करता है.

Data privacy or Confidentiality:

  • SSl Record Protocol, SSL Change CipherSpec Protocol, SSL Alert Protocol and SSL Handshake Protocol including Protocol की एक series का use करके data की privacy maintain की जाती है.
  • तो, confidential information, जैसे कि login details, social security number, credit card number, securely transmit किए जा सकते हैं.
  • Symmetric key cryptography information का use encrypt किया गया है.

Integrety of Data:

  • Communications की credibility को continue scan करता है.
  • यह client and server को authenticate करने के लिए standard cryptographic technique use करता है.

SSL Architecture:

SSL protocol को TCP / IP पर protocol के एक suite के रूप में architecturally construct किया गया है. Secure Sockets Layer(SSL) protocol design को usually SSL Protocol Stack के रूप में describe किया जाता है. 

SSL Protocol की दो Sub-layers हैं.

  • First Sub layer: First sub-layer में SSL protocol का एक portion होता है जिसे Protocol to SSL record कहा जाता है. Element integrity and secrecy facilities के लिए allow करता है. SSL record protocol भी TCP protocol के तहत secure transfer के लिए appropriate headers के साथ data checking and encapsulating करता है.
  • Second Sub layer: SSL Protocol Stack की second layer, SSL Record protocol पर set की गई है. यह HTTP जैसे application protocol के लिए एक safe and secure connection maintain रखने के लिए responsible है.

Advantages and Disadvantages of SSL

Advantages of SSL:

  1. Trust: 
  • Customers SSL का use करने वाली sites पर trust करते हैं.
  • इसके अतिरिक्त, यदि किसी site में online payment includes है and membership की allow करता है, तो आपके Customers data secure करने के लिए information security measures का होना required है.
  • इससे किसी site पर traffic acquired हो जाता है.
  1. Encryption:
  • SSL use करके एक website पर होने वाला data transmission, sensitive data की security ensure करने के लिए encoded है.
  • जब data encrypt किया जाता है, तो trespasser को inside के information intercept करना difficult होता ह.
  1. Security:
  • जब कोई customer phishing email receive करता है, तो उसमें original website की एक exact copy का link होता है and जब कोई customer website पर अपनी information use करता है, तो उसे एक unauthorized user द्वारा access किया जा सकता है, लेकिन SSL certificate होने पर उनकी access cancel कर दी जाती है and इस प्रकार customer को unauthorized phishing email से secure कर दिया जाता है.
  1. Server Aunthenticity:
  • SSL authentication provide करता है, जिसका meaning है कि internet पर data transfer proper server से pass की guarantee रहता है.
  • Trespasser अक्सर आपकी website होने का pretend करते हैं, और अपने clients information को concentrate करते हैं.
  • एक suitable Public Key Infrastructure (PKI) का use करना and एक trusted SSL supplier से SSL certificate receive करने से आप इससे avoid कर सकते हैं.

Disadvantages of SSL:

  1. Cost Factor of SSL:
  • SSL certificates quite expensive हैं क्योंकि service providers को infrastructure maintenance के लिए payment करना पड़ता है.
  • Some hosting organizations SSL certificates free of charge provide करते हैं.
  1. Credential required in SSL:
  • SSL Certificates कुछ additional resources को swallow कर लेगा, क्योंकि data को encoded किया जाना चाहिए.
  • SSL certificates use करते time massive internet traffic के साथ website performance में change एक disadvantages हो सकता है.

Conclusion of “SSL Full Form” :

आसा करते हैं ये आर्टिकल से आपको “SSL Full Form” के बारे में जानकारी मिल गयी होगी.

यदि ये आर्टिकल आपको पसंद आया तो कृपा करके इससे शेयर कीजिये और हमे प्रोत्साहित कीजिये.

1 thought on “SSL Full Form, What is the Full Form of SSL (In Hindi)?”

  1. Pingback: Difference between RAM and ROM - hINDITECHMARG

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!